November 22, 2017

गोरक्षा के नाम पर दुकान खोलकर बैठे लोगों पर आता है गुस्सा: पीएम मोदी

नई दिल्ली/जमुई,
मिल्लत टाइम्स/हिंदुस्तान
०७/०८/2016

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गोरक्षा के नाम पर गुजरात के उना में दलितों की पिटाई के बाद शनिवार को पहली बार चुप्पी तोड़ी। उन्होंने कहा कि गाय की रक्षा के नाम पर असामाजिक तत्व दुकान चला रहे हैं। ऐसे लोगों पर उन्हें गुस्सा आता है। साथ ही, राज्य सरकारों से ऐसे लोगों के खिलाफ डोजियर तैयार करने को कहा।

मोदी ने ‘माईगव’ की दूसरी वर्षगांठ पर इंदिरा गांधी स्टेडियम स्थित टाउन हाॠल में सामाजिक संगठन और वालंटीयर्स से जुडे़ सवाल पर यह प्रतिक्रिया दी। उन्होंने कहा, गौ भक्त अलग और गौ सेवक अलग हैं। कुछ लोग पूरी रात असामाजिक गतिविधियों में लिप्त रहते हैं। ऐसे लोग दिन में अपनी गतिविधियां छिपाने के लिए गोरक्षा का चोला पहन लेते हैं। उन्होंने राज्य सरकारों से गोरक्षकों का डोजियर तैयार करने की अपील करते हुए कहा कि इनमें 70 फीसदी ऐसे निकलेंगे जिनकी गतिविधियों को समाज स्वीकार नहीं करता है।

प्लास्टिक बंद कराना भी सेवा
मोदी ने कहा, गायें कत्ल से नहीं मरती हैं, बल्कि उनकी मौत प्लास्टि खाने से होती है। जब मैं गुजरात में था तो पशुओं का कैम्प लगवाता था। इसमें बीमार पशुओं का ऑपरेशन किया जाता था। एक बार एक गाय के पेट से दो बाल्टी प्लास्टिक निकली। अगर उनका प्लास्टिक खाना बंद करवा दें तो यह भी बड़ी गौ सेवा है।

कहानी के जरिये संदेश
इस संबंध में उन्होंने बादशाह और राजा की कहानी भी सुनाई। उन्होंने कहा कि पुराने जमाने में बादशाह युद्ध के मैदान में गायों को आगे कर देते थे। राजा इसलिए बादशाह पर हमला नहीं करते थे कि गाय को मारने से उन्हें पाप होगा और हार जाते थे।

ऐसा क्यों कहा?
जुलाई 2016 : गुजरात के उना में गोहत्या के आरोप में चार दलित युवकों की निर्मम पिटाई
जुलाई 2016: मध्य प्रदेश के मंदसौर में गोमांस के शक में दो महिलाओं को पीटा गया
सितंबर 2015 : यूपी के दादरी में गोमांस खाने के आरोप में अखलाख की पीट-पीट कर हत्या
अक्तूबर 2015 : जम्मू-कश्मीर में गो तस्करी के आरोप में एक ट्रक के सहायक की पिटाई से मौत
अक्तूबर 2015 : हिमाचल प्रदेश के सिरमौर जिले में गो तस्करी के आरोप में सहारनपुर के युवक की पीट-पीट कर हत्या

Related posts