आग से खेलने वाले खुद आग के शिकार हो जाते हैं देश में धर्म निरपेक्ष संविधान को नष्ट करने की कोशिश की जा रही है: मौलाना अरशद मदनी

Views: 7

19-01-2018 आग से खेलने वाले खुद आग के शिकार हो जाते हैं देश में धर्म निरपेक्ष संविधान को नष्ट करने की कोशिश की जा रही है: मौलाना अरशद मदनी
मुंबई: नवी मुंबई में खचाखच भरे सभा को संबोधित करते हुए मौलाना अरशद मदनी ने कहा कि जमीअत उलमा 99 सालों से देश में एकता और धार्मिक सहिष्णुता को निमंत्रण दे रही है और आज इसकी आवश्यकता है कल की तुलना में अधिक हो गई है . जमीअत के 100 साल के इतिहास राष्ट्रीय एकता के संदेश से पाठ है। मोलाना अरशद मदनी ने कहा कि मुसलमानों ने 1803 से लेकर 1947 तक डेढ़ सौ साल स्वतंत्रता संग्राम की लड़ाई लड़ी है

मोलाना मदनी ने कहा कि इस समय सबसे बड़ा खतरा इसी दस्तूर को है और अगर भगवान नसुाज्यह देश के हालात इसी रुख पर चलती रहे जो स्थिति अब है तो संविधान को नष्ट करने की कोशिश की जाएगी। और इसका नुकसान सिर्फ मुसलमानों को ही नहीं भुगतना होगा बल्कि देश के सभी अल्पसंख्यक इसकी चपेट में आएंगी। मौलाना मदनी ने जोर देकर कहा कि देश में गई हथिया को बदमाशी द्वारा रोकने के बजाय इस संबंध में कानून बनाया जाए और पहले भी यह मांग कर चुका हूँ और आज भी इस मंच से यह सदा बुलंद करता हूँ और यह उम्मीद करता हूँ कि आप सभी लोग उसका समर्थन करेंगे,

बाद में हज़रत मदनी ने अपने भाषण को बीच में रोक कर अन्य धर्मों के नेताओं के साथ और एक चेन बनाकर खड़े होकर गाय को राष्ट्रीय पशु बनाने की मांग की