हिमाचल प्रदेश से भी उठी आवाज़-“ना रंगों तिरंगा जुनैद के ख़ून से, ना लहरों इसे मज़हबी जूनून से”

काँगड़ा: एक तरफ़ जहां बड़े बड़े शहरों के लोग अपनी ख़ुद की ज़िन्दगी में मसरूफ़ हैं और समाज को ठीक राह पर लाने की ज़िम्मेदारी छोड़ बस अपनी ज़िन्दगी में मस्त हैं दूसरी ओर हिमाचल प्रदेश के एक छोटे से शहर से उम्मीद की किरणें फूट रही हैं. हिमाचल के कांगड़ा ज़िले में अमन-पसंद लोगों ने अब ये बीड़ा उठाया है कि वो समाज को ठीक राह पर लाने की अपनी कोशिश करेंगे.

देशभर में “मोब लिंचिंग” की बढ़ रही वारदातों के बीच कई शहरों में #NotInMyName नाम की मुहिम चलाई गयी.इस मुहिम को कांगड़ा में कांगड़ा सिटिज़न राइट्स ग्रुप ने चलाया हुआ है.
कांगड़ा और दूसरे छोटे शहरों से अमन पसंदी की आवाजें ही इस देश को मज़बूत करने का काम करती हैं.