बुलंदशहर के एसएसपी निलंबित, कई पर लटकी तलवार

नई दिल्ली/उत्तर प्रदेश
मिल्लत टाइम्स/हिंदुस्तान
०१/०८ २०१६

बुलंदशहर में हाइवे पर मां-बेटी के साथ गैंगरेप मामले में यूपी के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के सख्त तेवर के बाद बुलंदशहर के एसएसपी और संबंधित सीओ को निलंबित कर दिया गया है।

उधर, घटना का डीजीपी जाविद अहमद और प्रमुख सचिव (गृह) ने रविवार को खुलासा करते हुए बताया कि तीन संदिग्धों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। तीनों बावरिया जाति से ताल्लुक रखते हैं।

मुख्यमंत्री ने घटना को बेहद गंभीरता से लेते हुए मुख्य सचिव दीपक सिंघल को तलब किया और प्रमुख सचिव (गृह) देबाशीष पण्डा और पुलिस महानिदेशक जावीद अहमद को फौरन घटनास्थल पर भेजने का निर्देश दिया। उन्होंने मामले से संबंधित थानाध्यक्षों को निलंबित करने के भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि रविवार को शाम तक मामले में प्रभावी कार्यवाही न होने की स्थिति में पुलिस विभाग में उच्चतम स्तर पर भी कार्यवाही हो सकती है।

यादव ने कहा कि घटना के खुलासे और दोषियों की गिरफ्तारी के लिए पर्याप्त संख्या में पुलिस की टीमें गठित कर प्रभावी कार्रवाई की जाए। यादव ने पीड़ित परिवार के प्रति सहानुभूति व्यक्त करते हुए कहा कि राज्य सरकार दोषियों को जल्द से जल्द गिरफ्तार कराकर कड़ी से कड़ी सजा दिलवाएगी। वह पीड़ित परिवार से मुलाकात भी करेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि कि मामले में दोषियों को शीघ्रातिशीघ्र गिरफ्तार करके कानूनी कार्रवाई के माध्यम से ऐसी सजा दिलायी जाए, जो एक उदाहरण बने और भविष्य में कोई भी ऐसा दु:साहस करने के बारे में सोच न सके।

रविवार दोपहर को डीजीपी जाविद अहमद और प्रमुख सचिव गृह देवाशीष पंडा हेलीकॉप्टर से बुलंदशहर पहुंचे। यहां उन्होंने पहले घटनास्थल का निरीक्षण किया और उसके बाद पुलिस लाइन में पत्रकार वार्ता में घटना का खुलासा किया। डीजीपी ने बताया कि पुलिस टीम ने तीन लोगों को वैर स्टेशन से पकड़ लिया है। तीनों आरोपी कहीं भागने की फिराक में थे।

डीजीपी ने बताया कि तीनों आरोपियों की शिनाख्त बबलू निवासी फरीदाबाद, नरेश उर्फ ठाकुर निवासी भटिंडा पंजाब और रईस निवासी ग्राम सुतारी थाना कोतवाली देहात के रूप में हुई है। इन तीनों को पीड़ित महिला और लड़की ने भी पहचान लिया है। तीनों आरोपियों से गहन पूछताछ की जा रही है।

मामला क्या है?
29 जुलाई की रात नोएडा से शाहजहांपुर जा रहे कार सवार परिवार के छह लोगों को नेशनल हाईवे-91 पर कोतवाली देहात क्षेत्र में बदमाशों ने कार के नीचे एक्सल डालकर रुकवा लिया। बदमाश कार समेत पूरे परिवार को हाईवे से कुछ दूरी पर खेत में ले गए। वहां परिवार के तीन पुरुषों और एक महिला को बंधक बनाकर खेत में डाल दिया गया, जबकि 15 वर्षीय लड़की और उसकी मां से गैंगरेप किया गया।

गैंगरेप के आरोपियों पर लगेगी एनएसए
प्रदेश के प्रमुख सचिव (गृह) देवाशीष पंडा ने कहा कि यह जघन्य अपराध है। आरोपियों पर एनएसए के तहत कार्रवाई होगी। इस मामले में फास्ट ट्रैक कोर्ट से यह अपील की जाएगी कि इस मामले में जल्द सुनवाई कर दोषियों को सजा सुनाई जाए। मुख्यमंत्री पूरे मामले पर नजर बनाए हुए हैं। पीड़ित परिवार की हरसंभव मदद की जाएगी।

Comments: 0