अस्वस्थ होने के कारण सोनिया का रोड शो बीच में रुका

नई दिल्लीवाराणसी,
मिल्लत टाइम्स/हिंदुस्तान
०३/०८/२०१६

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी का रोड शो अस्वस्थता के कारण मंगलवार की शाम लगभग डेढ़ किलोमीटर पहले ही लहुराबीर पर रोकना पड़ा। साथ ही इंग्लिशिया लाइन तिराहे पर संक्षिप्त सभा और काशी-विश्वनाथ मंदिर में दर्शन-पूजन का कार्यक्रम भी स्थगित कर दिया गया। तबीयत ज्यादा बिगड़ने के कारण सोनिया को पहले लहुराबीर स्थित होटल में सवा घंटे और फिर बाबतपुर एयरपोर्ट पर लगभग ढाई घंटे डॉक्टरों की निगरानी में रखा गया। इस दौरान ड्रिप और आक्सीजन भी चढ़ाई गई।

एहतियात के तौर पर बीएचयू समेत कई प्रमुख अस्पतालों को अलर्ट कर दिया गया। दिल्ली से एयर एंबुलेंस मंगाने की भी तैयारी हो गई। इसी बीच सेहत की निगरानी कर रहे डॉक्टरों से अनुमति मिलने पर सोनिया गांधी को चार्टर विमान से दिल्ली रवाना कर दिया गया। यहां से सीएमओ डॉ. बीबी सिंह और हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ. ओपी तिवारी भी सोनिया के साथ गए। खास यह कि मुख्यमंत्री अखिलेश यादव अस्वस्थता की सूचना मिलने के बाद से लगातार हालात पर नजर रखे हुए थे। उन्होंने कमिश्नर नितिन रमेश गोकर्ण को पूरी व्यवस्था की मानीटरिंग खुद करने और पूरे समय सोनिया गांधी के साथ रहने का निर्देश दिया।

लहुराबीर के पास अचानक रुका काफिला
सोनिया गांधी कई दिनों से वायरल बुखार से पीड़ित थीं। चूंकि पहले से रोड शो का कार्यक्रम तय था, इसलिए वह अपनी अस्वस्थता को नजरअंदाज कर बनारस चली आईं। रोड शो के दौरान उन्होंने अपने वाहन में कई बार दवा खाई और जूस पीया। तकरीबन तीन घंटे के सफर के दौरान लगातार तीखी धूप व उमस से उनकी दिक्कत और बढ़ गई। लहुराबीर पहुंचते-पहुंचते उन्हें ज्यादा बेचैनी हुई। तुरंत उनका काफिला रोक दिया गया। उन्हें पास के एक होटल में विश्राम के लिए ले जाया गया। डॉक्टरों की टीम बुला ली गई। सीएमओ और हृदयरोग विशेषज्ञों ने उनकी जांच की। तकरीबन सवा घंटे इंतजार के बाद भी जब तबीयत में सुधार नहीं हुआ तो आगे का रोड शो रद्द करने का निर्णय किया गया।
डॉक्टर बुलाए गए
सोनिया गांधी की तबीयत बिगड़ने की जानकारी मिलने पर महानगर अध्यक्ष सीताराम केशरी के जरिए तत्काल डॉ. ओपी तिवारी और डॉ. घनश्याम श्रीवास्तव को बुलाया गया। दोनों डॉक्टरों ने चेकअप शुरू किया। बाहर लोगों की बेचैनी बढ़ रही थी और अंदर डॉक्टर चेकअप कर रहे थे। सोनिया गांधी को बोलने में कठिनाई हो रही थी।

मुख्यमंत्री चिंतित, तुरंत कमिश्नर को भेजा
सोनिया गांधी की अस्वस्थता की सूचना लखनऊ में मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को मिली तो उन्होंने तत्काल कमिश्नर नितिन रमेश गोकर्ण को होटल में जाकर जरूरी व्यवस्था करने को कहा। कमिश्नर ने सीएमओ और डॉक्टरों की टीम मौके पर भेजी और खुद सोनिया गांधी से मिलने पहुंचे। उधर एंबुलेंस और आईसीयू आदि की व्यवस्था भी पूरी कर ली गई।
इस बीच विधायक अजय राय होटल के अंदर बुलाए गए। उन्होंने अन्य नेताओं के साथ वार्ता की। लगभग एक घंटे बाद गुलाम नबी आजाद, राजबब्बर फिर शीला दीक्षित समेत अन्य नेता इंग्लिशिया लाइन रवाना हो गए। अंतत: छह बजकर 45 मिनट पर सोनिया गांधी होटल से बाहर निकलीं और सीधे एयरपोर्ट रवाना हो गई।

एयरपोर्ट पर तबीयत और बिगड़ी
बाबतपुर एयरपोर्ट पर पहुंचते ही सोनिया गांधी ने तेज ठंड की शिकायत की। आननफानन में विशिष्ट कक्ष में विश्राम की व्यवस्था की गई। कंबल आदि मंगाए गए। पहले से मौजूद चार डॉक्टरों की टीम ने फिर से जांच की। चूंकि सांस लेने में तकलीफ हो रही थी और तेज धूप के कारण देह का पानी सूख गया था, इसलिए ड्रिप और आक्सीजन चढ़ाया जाने लगा। देर तक हालत में सुधार न होने पर दिल्ली और वाराणसी के डॉक्टर अगले कदम के लिए लगातार परामर्श कर रहे थे। दो विकल्प थे कि सोनिया गांधी को बीएचयू या अन्य किसी अच्छे अस्पताल में भर्ती कराया जाए अथवा एयर एंबुलेंस से दिल्ली ले जाया जाए। चूंकि सांस लेने में दिक्कत हो रही थी और बुखार भी तेज था, इसलिए डॉक्टर दिल्ली ले जाने के पक्ष में लग रहे थे।

मोदी ने की जल्द स्वस्थ होने की कामना
सोनिया गांधी के बीमार होते ही यह खबर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तक पहुंच गई। मोदी ने मंगलवार की शाम ट्वीट कर सोनिया गांधी के जल्द स्वस्थ होने की कामना की। मोदी ने अपने ट्वीट में लिखा कि काशी दौरे के दौरान सोनियाजी की तबीयत खराब होने की सूचना मिली है। उनके अच्छे स्वास्थ्य और जल्द ठीक होने की कामना करता हूं।

दिल्ली पहुंचीं सोनिया
वाराणसी से नई दिल्ली लौटी कांग्रेस अध्यक्ष की हवाई अड्डे पर उनकी पुत्री प्रियंका गांधी वाड्रा ने अगवानी की। सोनिया के साथ वाराणसी से गुलाम नबी आजाद भी साथ आए।

Comments: 3