सीतामढ़ी दंगा:जैनुल अंसारी को जिंदा जलाने पर 25 दिन बाद बोले तेजस्वी-नीतीश की नकारा पुलिस ने नहीं की कोई कार्रवाई

मिल्लत टाइम्स ने जैनुल अंसारी को जिंदा जलाने पर 12 मिनट की विडियो बनाकर सबसे पहले रिपोर्टिंग की थी,जो कुछ ही मिनट मे वायरल हो गई,जिस पर पटना क्राईम ब्रांच ने मिल्लत टाइम्स को विडियो डिलीट करने के लिए नोटिस भेज दिया था उसके बाद ही मैन स्ट्रीम मिडिया ने खबर लगाई

मिल्लत टाइम्स:सीतामढ़ी: बिहार के सीतामढ़ी में तीन सप्ताह पहले 82 वर्षीय बुजुर्ग को भीड़ के द्वारा जिंदा जला दिया गया। इस घटना के आरोपी अभी तक पुलिस की पकड़ से बाहर हैं। इस पर राजद नेता तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर नीतीश सरकार पर जमकर निशाना साधा है।


(तेजस्वी द्वारा किया गया ट्वीट)
तेजस्वी ने लिखा कि 25 दिन पहले बिहार के सीतामढ़ी में संघ प्रशिक्षित मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा संरक्षित उन्मादी भीड़ ने 82 वर्षीय बुजुर्ग जैनुल अंसारी को जमकर पीटा फिर गला रेत सरेआम चौक पर जिंदा जला दिया था। और तो और प्रशासन ने उन्हें 75 किमी दूर दूसरे जिले में दफनाया।


राजद नेता ने लिखा कि जनादेश के चीरहर्ता एवं सृजन चोर मुखिया आदरणीय नीतीश कुमार की नकारा पुलिस ने अभीतक जानबुझकर 82 वर्षीय बुजुर्ग को जिंदा जलाने वाले दंगाईयों को नहीं पकड़ा है ताकि वो दरिंदे फिर किसी और को जिंदा जला सके और नीतीश जी चुनाव से पहले सांप्रदायिक तनाव पैदा कर वोटों की फसल काट सके।

तेजस्वी ने एक अन्य ट्वीट में लिखा कि जनादेश चोर सांप्रदायिक मुख्यमंत्री की अंतरात्मा महागठबंधन में इसलिए घुट रही थी


जैनुल अंसारी की पोस्ट मार्टम रिपोर्ट
क्योंकि हमारे रहते उन्हें किसी को जिंदा जलवाने और सांप्रदायिक दंगे प्रायोजित करवाने की छूट नहीं थी। हमने दंगाईयों को नकेल डाल रखी थी। गोडसे के उपासक सीएम की नैतिकता अब मजे में है क्योंकि संघी संग हैं।

मिल्लत टाइम्स ने जैनुल अंसारी को जिंदा जलाने पर 12 मिनट की विडियो बनाकर सबसे पहले रिपोर्टिंग की थी,जो कुछ ही मिनट मे वायरल हो गई,जिस पर पटना क्राईम ब्रांच ने मिल्लत टाइम्स को विडियो डिलीट करने के लिए नोटिस भेज दिया था जिसके बाद बहुत सारे अखबार और न्यूज पोर्टल ने मिल्लत टाइम्स का साथ देते हुए मिल्लत टाइम्स की रिपोर्ट और जैनुल अंसारी के जिंदा जलाने की घटना को सही बताते हुए, और क्राईम ब्रांच के नोटिस का विरोध करते हुए मिडिया की आजादी खत्म करने वाला नोटिस बताया था!

मिल्लत टाइम्स को भेजा गया नोटिस