राम मंदिर निर्माण को लेकर शंखनाद रैली का एलान,1992 के इतिहास को दोहराने की कोशिश

‌मिल्लत‌ टाइम्स|नई दिल्ली| मिशन 2019 से पहले श्रीराम मंदिर निर्माण को लेकर सियासत जहां तेज है, वहीं संत समाज भी पूरी तरह आंदोलन के मूड में आ चुका है। विहिप ने भी राम मंदिर आंदोलन को धार देने के लिए शंखनाद रैलियों का आयोजन कर दिया है। 25 नवंबर को अयोध्या में शंखनाद रैली के साथ इसका शुभारंभ होगा। अंतिम रैली नौ दिसंबर को दिल्ली में होगी। दिल्ली में होने वाली रैली को ऐतिहासिक बनाया जाएगा, जिसमें पूरा संत समाज और आरएसएस के दिग्गज पदाधिकारी भी शामिल होंगे। इस रैली में ही अहम घोषणाएं होने की उम्मीद है।

लोकसभा चुनाव से पहले राम मंदिर निर्माण को लेकर एक बार फिर से आवाज बुलंद हो रही है और तमाम संगठन इसको लेकर मैदान में हैं। भाजपा की प्रदेश और केंद्र सरकार पर भी मंदिर निर्माण के लिए दबाव बढ़ता जा रहा है। ऐसे में 90 के दशक में राम मंदिर निर्माण के लिए अहम आंदोलन चलाने वाली विहिप भी पूरी तैयारी के साथ मैदान में है। राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ भी मंदिर को लेकर अपना रुख स्पष्ट कर चुका है। ऐसे में तय है कि आने वाले दिनों में राम मंदिर को लेकर चलने वाले आंदोलन और तेज होंगे।

विहिप के मेरठ प्रांत संगठन मंत्री सुदर्शन चक्र ने बताया कि विहिप राममंदिर निर्माण को लेकर शंखनाद रैलियों का आयोजन करने जा रहा है। पहली रैली 25 नवंबर को अयोध्या में होगी। इसी दिन अयोध्या के साथ नागपुर, बंगुलुरु और मुरादाबाद में भी शंखनाद रैलियों का आयोजन किया जाएगा। रामपुर में 26 नवंबर और बुलंदशहर में 28 नवंबर को शंखनाद रैलियां होंगी। एक दिसंबर को देवबंद और इसके अलावा 2 दिसंबर को संभल, अमरोहा में शंखनाद रैली होंगी। सबसे अंत में नौ दिसंबर को बड़ी शंखनाद रैली दिल्ली में होगी। जिसमें दिल्ली और एनसीआर के लोग शामिल होंगे। गाजियाबाद, मेरठ, बुलंदशहर और मुजफ्फरनगर विभाग रचना में शामिल सभी जिलों के लोग दिल्ली में होने वाली शंखनाद रैली में शामिल होंगे। इस रैली में सभी प्रमुख संत तथा राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के प्रमुख पदाधिकारी भी शामिल रहेंगे। विहिप द्वारा दिल्ली में होने वाली शंखनाद रैली को निर्णायक माना जा रहा है। संभावना व्यक्त की जा रही है कि इस रैली में कुछ अहम घोषणाएं भी मंदिर आंदोलन को लेकर की जा सकती हैं। इस रैली में अनेक संगठन भी शामिल होंगे, जो मंदिर निर्माण के लिए संघर्ष कर रहे हैं।

माहौल बनाने में जुटी विहिप
राममंदिर आंदोलन के लिए एक बार फिर से माहौल बनाने में विहिप जुट गई है। विहिप का प्रयास है कि एक बार फिर से 90 के दशक जैसा माहौल बनाया जा सके। इसके लिए विहिप पदाधिकारियों द्वारा गांवों में जनसंपर्क का फैसला लिया गया है। वह ग्रामीणों के बीच जाकर मंदिर निर्माण को लेकर उनसे चर्चा करेंगे और बड़ी संख्या में ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों को भी इस आंदोलन में जोड़ा जाएगा। गांवों में मंदिर निर्माण की चर्चा को तेज किया जाएगा।

जन्मभूमि को भव्य बनाना ही होगा : देवेश उपाध्याय
विहिप से अलग होने के बाद डा प्रवीण तोगड़िया द्वारा बनाई गई अंतराष्ट्रीय हिन्दू परिषद के अंतराष्ट्रीय मंत्री देवेश उपाध्याय ने कहा कि राम तो सर्वव्यापी हैं, बात है राम की जन्मभूमि की और जन्मभूमि को भव्य बनाना ही होगा। विहिप का आंदोलन सिर्फ माहौल बनाने तक ही सीमित नहीं होना चाहिए, बल्कि वास्तव में राम मंदिर निर्माण के लिए होना चाहिए। इस देश का हिंदू अब सिर्फ दिसंबर तक इंतजार करेगा और शीतकालीन सत्र में यदि भाजपा राममंदिर निर्माण के लिए अध्यादेश नहीं लाती है तो फिर पूरे देश में अंतराष्ट्रीय हिन्दू परिषद द्वारा जन जागरण किया जाएगा।