U.P.नहीं मिले डॉक्टर, पिता के कंधे पर बेटे ने तोड़ा दम

कानपुर
मिल्लत टाइम्स
३०/०८/२०१६

कानपुर। फजलगंज के रहने वाले सुनील के बेटे को बहुत तेज बुखार था। उन्होंने इलाज के लिए समाजवादी एंबुलेंस बुलाई मगर नहीं आई।बेटे को पिता जैसे तैसे अस्पताल ले गया तो वहां स्ट्रेचर नहीं मिला। बेटे को कंधे पर लादकर पिता अस्पताल में डॉक्टरों को ढूंढने लगा।
आलम यह रहा कि बेटे के इलाज के लिए कोई डॉक्टर तक नहीं मिला और मासूम ने तड़प- तड़प कर पिता के ही कंधे पर ही दम तोड़ दिया।
पिता अस्पताल की लापरवाही के बजाय अपनी किस्मत को कोसने लगा। लेकिन हकीकत यह थी कि जिले के सबसे बड़े अस्पतालकी सुविधाएं खुद वेंटिलेटर पर हैं, तभी तो इस मासूम ने बाप के कंधे पर दम तोड़ दिया।
पिता के आंसुओं से मानो अस्पताल में सैलाब आ गया हो। बेटे की लाश को कंधे पर रखकर सोमवार को एक लाचार बाप अपनी गरीबी को कोस रहा था। जिले के सबसे बड़े अस्पताल हैलट की सुविधाएं खुद वेंटिलेटर पर हैं, तभी तो इस मासूम ने बाप के कंधे पर दम तोड़ दिया।
लोगों का कहना है कि यहां स्ट्रेचर की एवज में कर्मचारी 50- 100 रुपए लेते हैं। इसी के चलते पिता को स्ट्रेचर नहीं मिल सका।