भारत को मिलेगा दुनिया का सबसे खतरनाक मिसाइल ‘हारपुन’

वाशिंगटन,
मिल्लत टाइम्स/हिंदुस्तान,
२४/०९/२०१६

फ्रांस के साथ राफेल लड़ाकू विमान पर हुए समझौते के बाद अब भारतीय सेना में हारपून मिसाइलों के शामिल होने का रास्ता भी साफ हो गया है। अमेरिकी रक्षा विभाग ने भारत को पोत भेदी हारपून मिसाइलों की आपूर्ति करने के लिए बोइंग को आठ करोड़ 10 लाख डॉलर से अधिक की राशि का करार दिया है।

मीडिया रिपोर्ट के मुतबिक, विदेश सैन्य बिक्री कार्यक्रम के तहत भारत सरकार के लिए बोइंग को 89 हारपून मिसाइलों, संबंधित कंटेनरों और उपकरणों की 22 खेप के लिए करार दिया गया है। मिसाइलें अमेरिका में कई स्थानों पर बनाई जाएंगी। इनमें से अधिकतर का विनिर्माण सेंट चार्ल्स, मिसूरी में होगा। विनिर्माण की कुछ प्रक्रिया ब्रिटेन में भी की जाएगी। मिसाइलों के जून 2018 में तैयार हो जाने की उम्मीद है।

दुनिया की सबसे खतरनाक मिसाइल
अमेरिकी सेना के पास मौजूद हारपून मिसाइल को दुनिया की सबसे खतरनाक मिसाइलों में शामिल किया जाता है। भारत हारपून मिसाइलों को बोइंग पी8आई पोसायडन मैरीटाइम सर्विलांस एयरक्राफ्ट में लाएगा। हारपून मिसाइल एक एंटि-शिप गाइडेट मिसाइल है जो 124 किलोमीटर तक मार कर सकता है। यह मिसाइल हर मौसम में हवा से जमीन पर कई तरीकों से मार कर सकती है। इसे समुद्री इलाकों के अलावा, जमीन से हवा में, बंदरगाह और बंदरगाहों पर खड़े वायुसेना के युद्धपोत से भी दागा जा सकता है।