तिरपाल सिलने वाले कारीगर के जन-धन अकाउंट में मिले 3 करोड़ 72 लाख रूपये

नई दिल्ली एटा:
मिल्लत टाइम्स/ एबीपी न्यूज़
०३/१२/२०१६,

नोटबंदी के दौर में पैसों से जुड़ी एक के बाद एक चौंकाने वाली कहानियां सामने आ रही हैं. इस बार एक ऐसी ही खबर आई है उत्तर प्रदेश के एटा से. एटा में एक मजदूर के जनधन खाते में करीब 4 करोड़ रुपये जमा हो गए हैं. इस जानकारी के आने के बाद बैंक से लेकर आयकर विभाग तक सब में हड़कंप मच गया. आईटी के साथ ही पुलिस भी इस मामले में सतर्क हो गई है.

जिस शख्स के खाते में इतनी बड़ी रकम जमा की गई है उनका नाम है अरविंद कुमार. दिल्ली में तिरपाल सीलने का काम करने वाले उत्तर प्रदेश के एटा के रहने वाले अरविंद कुमार के एटा के ICICI बैंक में जनधन का खाता अचानक करोड़ों रुपयों से भर गया. इस वक्त अरविंद कुमार के खाते में 3 करोड़ 72 लाख 960 रुपये जमा हैं. मेहनत-मजदूरी कर पैसा कमाने वाले अरविंद कुमार के खाते में अचानक इतना पैसा आने से हड़कंप मचा हुआ है.

बैंक से लेकर आयकर विभाग तक इस खाते की जानकारी जुटाने में लगा गया है. इस पूरे मामले को लेकर आयकर विभाग की टीम ने बैंक पहुंचकर छानबीन शुरू कर दी है. एटा जिले के मलावन थाना इलाके के छछैना गांव के रहने वाले अरविन्द कुमार ने एक साल पहले ICICI बैंक में जनधन योजना के तहत खाता खुलवाया था. उनके पास इस खाते का पहले से ही एक एटीएम था.

दो दिन पहले ही काम नहीं मिलने के चलते अरविन्द अपने घर एटा वापस लौटे थे. घर पर उनके पते पर दूसरा एटीएम कार्ड पहुंचा हुआ था. अरविंद कुमार का दावा है कि उसने नए एटीएम कार्ड के लिए अप्लाई ही नहीं किया था. पुराने एटीएम से पैसे नहीं निकल रहे थे तो अरविंद जानकारी जुटाने बैंक गया. बैंक जाने पर पता चला कि उसके खाते में 3 करोड़ 72 लाख 960 रुपये जमा हैं.

बैंक में जन-धन खाते में इतनी बड़ी रकम जमा होने से हड़कंप मच गया और बैंक ने इस खाते को फ्रीज कर दिया है. आयकर विभाग जांच के लिए पहुंचा तो है लेकिन सूत्रों के मुताबिक बैंक जांच में सहयोग नहीं कर रहा है. सबसे पहले ये पता लगाने की कोशिश हो रही है कि आखिर अरविंद कुमार के खाते में इतना पैसा किसने जमा करवाया. ये पूरा मामला सामने आने के बाद से खाताधारक अरविंद कुमार लापता है. अरविंद कुमार अपने गांव में भी नहीं मिल रहा है इसीलिए उसकी भूमिका भी संदिग्ध मानी जा रही है.